नेतृत्व, शिक्षा, राष्ट्रसेवा व समाज सेवा में रोट्रेक्ट क्लब मददगार, एपीजी शिमला विश्वविद्यालय ने रखी रोट्रेक्ट क्लब की नींव

नेतृत्व, शिक्षा, राष्ट्रसेवा व समाज सेवा में रोट्रेक्ट क्लब मददगार, एपीजी शिमला विश्वविद्यालय ने रखी रोट्रेक्ट क्लब की नींव


शिमला, अप्रैल 23
स्थानीय एपीजी शिमला विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. डॉ. रमेश चौहान ने शुक्रवार को एपीजी शिमला विश्वविद्यालय के रोट्रेक्ट क्लब का विधिपूर्वक उद्धघाटन किया। यह विशेष आयोजन रोटरी क्लब शिमला के प्रधान पदम सूद के तत्वावधान में आयोजित किया गया और एपीजी शिमला विश्वविद्यालय के मकैनिकल इंजीनियरिंग विभाग के विभागाध्यक्ष डॉ. कमल कश्यप कार्यक्रम के समन्वयक रहे। रोट्रेक्ट क्लब के स्थापना अवसर पर विश्वविद्यालय के छात्रों , शिक्षकों सहित कई गणमान्य लोगों ने ऑनलाइन माध्यम से अपनी उपस्थिति दर्ज़ की। इस अवसर पर अतुल टांगरी कार्यक्रम के मुख्य वक्ता रहे। एपीजी शिमला विश्वविद्यालय के रोट्रेक्ट क्लब की स्थापना अवसर पर कुलपति प्रो. डॉ. रमेश चौहान ने छात्रों और शिक्षकों को संबोधित करते हुए कहा कि रोटरी क्लब या रोट्रेक्ट क्लब मात्र मानव सेवा करने का एक माध्यम है जिसके जरिए लोग, शिक्षित युवा, समाज सेवी संगठन, शिक्षा संगठन, व्यवसायी एक साथ मिलकर समाज सेवा के लिए अपनी सहभागिता अच्छे से निभा सकते हैं लेकिन उन्हें समाज सेवा हेतु प्रेरित करने के लिए एक प्लेटफार्म चाहिए और यह रोटरी क्लब व रोट्रेक्ट क्लब एक सुलभ व त्वरित प्लेटफॉर्म है जो समाज व जररूतमंद लोगों, छात्रों की सहायता , राष्ट्र-सेवा और विपरीत परिस्थितियों में समाजहित में निःशुल्क सेवा करने का अवसर देता है, परन्तु समाज हित व राष्ट्रहित में सेवा करने का जज्बा होना चाहिए। कुलपति चौहान ने कहा कि युवा पीढ़ी पढ़ाई के साथ-साथ इस दिशा में बेहतर कार्य कर सकती है अगर उन्हें सही ढंग से प्रेरित करें और इस अनुभव से वे बेहतर व्यवसाय में सफल होकर समाज व राष्ट्र को भी उन्नति की ओर अग्रसर करने में सफल होंगे। उन्होंने कहा कि समाज सेवा व असहाय मासूम लोगों, गरीब छात्रों की सहायता करने से समाज का भला तो होता ही है बल्कि सेवक को भी आत्मिक सुख मिलता है। चौहान ने कहा कि एपीजी शिमला विश्वविद्यालय इस दिशा में हमेशा अपना सहयोग देता रहेगा। वहीं कार्यक्रम के दौरान मुख्य वक्ता रहे अतुल टांगरी ने छात्रों को संबोधित करते हुए कहा कि रोटरी क्लब हो या रोट्रेक्ट क्लब, ये क्लब समाज को जोड़ने और सहायता करने का एक प्लेटफार्म है जो खासकर व्यवसायी लोगों, युवाओं का नेतृत्व, शिक्षा व समाज सेवा मददगार साबित होता है परंतु इस दिशा में सही नेतृत्व की जरूरत होती है और हमारे छात्र व शिक्षित युवाओं के लिए रोट्रेक्ट क्लब एक प्लेटफॉर्म ही नहीं बल्कि युवाओं में सामाजिक कार्यों, राष्ट्रनिर्माण में योगदान देने का अवसर प्रदान करता है। अतुल टांगरी ने कहा कि छात्रों व युवाओं को रोट्रेक्ट क्लब से जुड़कर समाज सेवा के लिए आगे आना चाहिए ताकि युवाओं में नेतृत्व, शिक्षा, सन्मय भाव, राष्ट्रसेवा व समाज सेवा जागृत हों और देश के बेहतर नागरिक बनें तभी शिक्षा का मूल्य सार्थक है। रोटरी क्लब शिमला के प्रधान पदम सूद ने अपने विचार साँझा करते हुए छात्रों को प्रेरित किया कि पढ़ाई व जॉब के साथ-साथ युवाओं व छात्रों को रोट्रेक्ट क्लब से जुड़कर रचनात्मक कार्यक्रमों के जरिए समाज व राष्ट्रहित में कार्य करने चाहिए। छात्रवर्ग की ओर से कानून की पढ़ाई कर रही छात्रा निधि को एपीजी शिमला विश्वविद्यालय रोट्रेक्ट क्लब का प्रधान चुना गया जबकि होटल मैनेजमेंट व हॉस्पिटैलिटी की छात्रा रूपेंद्र कौर को उपप्रधान चुना गया और छात्रों व शिक्षकोँ की ओर से मकैनिकल इंजीनियरिंग विभाग के विभागाध्यक्ष डॉ. कमल कश्यप को बतौर समन्वयक चुना गया।कार्यक्रम के दौरान एपीजी शिमला विश्वविद्यालय के रजिस्ट्रार डॉ. अनिल कुमार पाल, डीन एकेडेमिक्स डॉ. कुलदीप कुमार, डॉ. नील सिंह, डॉ. सुनील ठाकुर, डॉ. प्रेम सिंह, डॉ. भरतेश, प्रो.डॉ. लोकेश चंदेल, प्रो. डॉ. अरुण चौधरी, सभी विभागों के विभागाध्यक्ष, परीक्षा नियंत्रक अफ़ज़ल खान, कार्यकारी अधिकारी उपस्थित रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *