बीजेपी कार्यसमिति में राजनीतिक प्रस्ताव पारित,जयराम सरकार को दो साल की बधाई, कांग्रेस को नसीहत

बीजेपी कार्यसमिति में राजनीतिक प्रस्ताव पारित,जयराम सरकार को दो साल की बधाई, कांग्रेस को नसीहत

भारतीय जनता पार्टी प्रदेश कार्यसमिति श्री जयराम ठाकुर जी को 2 साल के सफल कार्यकाल के लिए बधाई देती है। प्रदेश को एक ऐसा मुख्यमंत्री जो कि किसान, मजदूर परिवार से आकर, देश के विभिन्न हिस्सो मे सामजिक कार्य करने के बाद हिमाचल की राजनीति में कदम रखते है, पार्टी के छोटे-बड़े दायित्व निभाते हुए-प्रदेश अध्यक्ष एवंम मंत्री का दायित्व सम्भालते है, और प्रदेश का मुख्यमंत्री बनते ही जनता की सेवा में जुट जाते है जिसके परिणाम स्वरूप आज हिमाचल का प्रत्येक व्यक्ति माननीय मुख्यमंत्री को सामान्य जन-मानस का मुख्यमंत्री मानता है। आज निश्चित रूप से प्रदेश में एक नए युग की शुरूआत हुई है। प्रदेशवासियों में नई उम्मीदें जगी, जिन्हें पूरा करने के लिए भाजपा सरकार ने पहले ही दिन से जनहित व प्रदेश हित में काम करना आरम्भ कर दिया। वर्तमान सरकार ने राज्य के सर्वांगीण विकास और जनता के जीवन में सुधार लाने की दृष्टि से ठोस शुरूआत करते हुए अनेक महत्वपूर्ण निर्णय लिए। सरकार के गठन के बाद से ही ’’एक हिमाचल-नेक हिमाचल’’ को सार्थक करते हुए टोपियों की राजनीति से ऊपर उठकर पूरे प्रदेश को एक सूत्र में पिरोने के प्रयास श्री जयराम ठाकुर ने किए तथा नए व पुराने हिमाचल की खाई को समाप्त करने में सफल हुए।
’’सबका साथ, सबका विकास, सबका विश्वास’’ का लक्ष्य लेकर मुख्यमंत्री श्री जयराम ठाकुर ने सत्ता की बागडोर संभालने के बाद इसी ध्येय वाक्य को साधते हुए प्रदेश में विकास कार्य शुरू किए। वर्तमान भाजपा सरकार आम जन-मानस की सरकार है। मुख्यमंत्री श्री जयराम ठाकुर सहज, सरल उपलब्ध मुख्यमंत्री हैं। प्रदेश सरकार ने कर्मचारियों व पूर्व कर्मचारियों को लगभग 5200 करोड़ के आर्थिक लाभ दिए जोकि कर्मचारी हितेषी सरकार का प्रमाण है। हिमाचल की सीमा में आने पर हिमाचल की गाडि़यों को प्रवेश शुल्क देना पड़ता था जिसको वर्तमान भाजपा सरकार ने हटाकर हिमाचल की जनता को राहत पहुंचाई है।
प्रदेश की वर्तमान सरकार लोगो के लिए उनके घर द्वार जाकर समस्याओं का समाधान कर रही है। “जनमंच” की शुरूआत भी आम जन-मानस की समस्याओ के त्वरित समाधान करने के लिए की गई महत्वपुर्ण पहल है। “जनमंच” के माध्यम से सरकार के मंत्री प्रत्येक जिले में पूरे प्रशासन के साथ जाकर लोगों की अधिकतर समस्याओं का मौके पर निपटारा करते हैं। यह जनमंच कार्यक्रम अब जनता के “मन का मंच” बनता जा रहा है। “मुख्यमंत्री सेवा संकल्प हेल्पलाईन”-लोगों की समस्याओं के शीघ्र समाधान की दिशा में सरकार ने “हेल्पलाईन” की शुरूआत की है। इसके तहत कोई भी व्यक्ति टोल फ्री नं0 1100 पर कॉल कर अपनी समस्या बता सकता है तथा एक तय समय अवधि के अंदर इसका निपटारा किया जा रहा है।
प्रदेश की सरकार गरीबों के लिए कल्याणकारी सरकार साबित हुई है। वृद्धजनों को बेहतर आर्थिक सुरक्षा प्रदान करने के लिए बिना आय सीमा के सामाजिक सुरक्षा पेंशन प्राप्त करने की आयु सीमा को 80 वर्ष से घटाकर 70 वर्ष किया है। विधवाओं व अपंग जनों की पेंशन को बढ़ाना, 50 हजार नई पेंशन को लगाना, 10 हजार गरीबो को मकान उपलब्ध कराना जैसी योजनाऐं भाजपा सरकार की निर्धन समाज के कल्याण के प्रति समर्पण भाव को दर्शाती है। इस योजना के तहत 5 लाख 34 हजार लोगों को लाभ मिल रहा है।
वर्तमान जयराम सरकार किसान-बागवान हितैषी सरकार है। किसान की आमदनी को दोगुना करने का लक्ष्य लेकर भाजपा सरकार ने अनेक योजनाऐं चलाई। “प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना” के अर्न्तगत लगभग 8 लाख 72 हजार किसानो का लगभग 6 सौ 10 करोड़ रू की राशि जारी करके नया कीर्तिमान स्थापित किया है। प्राकृतिक खेती, मुख्यमंत्री खेत संरक्षण योजना, कांटेदार तार बाड़ योजना, कम्पोजिट फैसिंग, एंटी हेल नेट व एंटी हेल नेट के लिए लगाए जाने वाले एंगल व बांस के ऊपर सब्सिडी योजना, केसर व हींग की खेती, मधुमक्खी पालन जैसी अनेक योजनाऐं किसान को समृद्ध करती हुई दिखाई देती है। किसान के पशुधन के ईलाज के लिए मोबाईल मेडिकल युनिट, नस्ल सुधार व हिमाचल नस्ल की गायों का संवर्धन किसान को मजबूत करने की दिशा में जयराम ठाकुर सरकार का महत्वकांक्षी कार्यक्रम है। किसानों को टै्रक्टर खरीदने के लिए 3 लाख रू तक सब्सिडी दी जा रही है।
प्रदेश की सरकार बेरोजगारों के हित की सरकार है। बेरोजगारों को रोजगार उपलब्ध करवाने के लिए अनेक योजनाआें की शुरूआत की गई है जिसमें कि “मुख्यमंत्री स्वाबलंबन योजना” प्रमुख है। युवाओं को स्वरोजगार के अवसर उपलब्ध करवाने हेतु स्थानीय उद्यमिता को बढ़ावा दिया जा रहा है। इस योजना का उदेश्य है, प्रदेश का युवा रोजगार मांगने वाला नहीं बल्कि रोजगार देने वाला बने। इस योजना के अर्न्तगत प्रदेश के 1000 के लगभग युवाओं ने स्वरोजगार स्थापित किए और अपने साथ हजारों लोगों को रोजगार प्रदान किया। इसके तहत 18 से 45 वर्ष आयुवर्ग के युवाओं को 60 लाख रुपये तक की कुल परियोजना लागत वाले उद्योग स्थापित करने के लिए 25 प्रतिशत सब्सिडी दी जा रही है तथा युवतियों, महिलाओं को यह सब्सिडी 30 प्रतिशत तथा विधवा महिलाओं को 35 प्रतिशत तक दी जा रही है। गत कांग्रेस सरकार में जहां नशे के सौदागरों को संरक्षण दिया गया वहीं वर्तमान जयराम सरकार ने पड़ोसी राज्यों जिसमें पंजाब, हरियाणा, उत्तराखण्ड के मुख्यमंत्रियों से मिलकर हिमाचल प्रदेश में नशे को रोकने के लिए योजना अमल में लाई और हिमाचल प्रदेश में नशा मुक्ति कानून को और कड़ा किया गया। जिसके परिणामस्वरूप अनेकों नशे के सौदागरों पर केस दर्ज कर कड़ा संदेश दिया।
हिमाचल प्रदेश के इतिहास में एक नई पहल के तहत ’’ग्लोबल इन्वैस्टर मीट’’ का सफल आयोजन 7, 8 व 9 नवम्बर, 2019 को धर्मशाला में किया गया जिसका शुभारंभ देश के यशस्वी प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी ने किया। इनमें से 13,656 करोड़ रू0 की 240 परियोजनाओं का 27 दिसंबर, 2019 को “ग्राऊंड ब्रेकिंग” समारोह किया गया। इस ग्राऊंड ब्रेकिंग समारोह में देश के गृह मंत्री एवं तत्कालीन राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री अमित शाह जी एवं राष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष श्री जगत प्रकाश नड्डा जी भी उपस्थित रहे। हिमाचल में होने वाले निवेश से प्रदेश के लगभग 2 लाख युवाओं को रोजगार प्राप्त होगा। रोजगार के क्षेत्र में प्रदेश सरकार ने दो वर्ष के कार्यकाल में 17707 लोगों को सरकारी क्षेत्र में रोजगार दिया और आगामी एक वर्ष में 20 हजार खाली पदों को भरा जाएगा। सरकारी नौकरियों के क्षेत्र में यह निर्णय बेरोजगारों के लिए बहुत ही बड़ी देन है। स्वरोजगार की दृष्टि से कौशल विकास भत्ता के माध्यम से 80 हजार युवाओं को भत्ते का लाभ देने का लक्ष्य रखा है।
जयराम सरकार द्वारा प्रदेश में पर्यटन को बढ़ावा व जनता की सुविधा के लिए जहां कांगड़ा, शिमला हवाई अड्डों के विस्तारीकरण तथा मण्डी में अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा तथा हिमाचल में हैलीपोट निर्माण के लिए 1013 करोड़ रू0 का बजट में प्रावधान किया है जोकि हिमाचल के इतिहास में अब तक की सबसे बड़ी बजटीय घोषणा है।
सरकार ने प्रदेश की जनता के लिए बहुत सारी कल्याणकारी योजनाओ की शुरूआत की है, केन्द्र की “आयुष्मान भारत योजना” से वंचित रहे नागरिकों के लिए ’’हिमकेयर योजना’’ लागू करके 5 लाख रू0 तक का ईलाज निःशुल्क प्रदेश के नागरिको को उपलब्ध करवाया जा रहा है। “सहारा योजना” में गम्भीर बीमारियों से ग्रस्त व्यक्तियों को 3000 रू0 प्रतिमाह देने का प्रवधान किया गया। चर्मकारों, बुनकरों, शिल्पकारों, दस्तकारों तथा अन्य स्वयं सहयता समूहो व ग्रामीणो के द्वारा तैयार किए गए उत्पादां को स्थान व बाजार मुहैया करवाने के लिए हर जिला मुख्यालय पर “सरस मेलां” का आयोजन किया जाएगा। “परम्परा” नाम की नई योजना के माध्यम से समाज के इस वर्ग को लाभ पहुचाने का प्रयास है। पूर्व कांग्रेस की सरकार की गलत नीतियों के कारण भारी भरकम कर्ज के तले दबी हुई अर्थव्यवस्था, भ्रष्टाचार से ओत-प्रोत प्रशासनिक ढांचा विरासत में मिलने के बावजूद उपलब्धि भरे 2 साल किसी करिश्में से कम नहीं है।
भारतीय जनता पार्टी के पास श्री नरेन्द्र मोदी जी के रूप में दुनिया का सर्वश्रेष्ठ नेतृत्व मौजूद है। श्री नरेन्द्र मोदी जी के कुशल नेतृत्व के कारण आज पूरे विश्व में भारत का मान और सम्मान बढ़ा है। भारतीय जनता पार्टी हिमाचल प्रदेश अपने आपको गौरवान्वित महसूस करती है कि हिमाचल प्रदेश के कार्यकर्ता माननीय श्री जगत प्रकाश नड्डा जी विश्व की सबसे बड़ी लोकतांत्रिक पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष के रूप में नेतृत्व कर रहे है। प्रदेश में श्री जयराम ठाकुर जी के रूप में एक कार्यशील, गतिशील व मिलनसार युवा मुख्यमंत्री प्रदेश का नेतृत्व कर रहे है। भाजपा के पास पंडित दीन दयाल उपाध्याय एवं डा० श्यामा प्रसाद मुखर्जी का वैचारिक चिंतन है। समाज के अतिंम पायदान पर बैठे व्यक्ति की सेवा करते हुए समाजिक समरसता के साथ हिमाचल प्रदेश और देश को आगे ले जाने का संकल्प है। अर्थात् भाजपा के पास नेतृत्व भी है, नीति भी है ओर समर्पित, त्यागी, तपस्वी व बलिदानी कार्यकर्ता भी हैं। अतः निश्चित है कि भाजपा आने वाले लम्बे समय तक सत्ता मे रहते हुए समाज की सेवा करती रहेगी। इसके विपरीत कांग्रेस में नेतृत्व का अभाव है। परिवारवाद का प्रकोप कांग्रेस पर इस कदर हावी हो चुका है कि देश की सबसे पुरानी राष्ट्रीय पार्टी रसातल के कगार पर है इसके पास न नेता है, न नीति है और न नीयत है। भाजपा के लिए देश प्रथम और परिवार बाद में है परन्तु कांग्रेस के लिए एक परिवार ही सर्वोपरि है। हिमाचल प्रदेश कांग्रेस में वैचारिक शून्यता है, टुकड़ो में बंटी कांग्रेस भाजपा के बेहतरीन जन हितैषी कार्यो को नकार कर एवमं उनका विरोध कर हिमाचल प्रदेश के जन-मानस का नुकसान करने मे जुटी हुई है। यह भी सर्व विदित है कि हिमाचल प्रदेश में कांग्रेस पार्टी के नेताओं में वर्चस्व कि जंग अपने चरम पर है।
प्रदेश की सरकार द्वारा जनहित में किए कार्यों को प्रदेश की जनता ने भी भरपूर समर्थन दिया और इसी का परिणाम है कि 2019 के लोकसभा चुनावो में प्रदेश में चारों लोकसभा सीटों पर भाजपा को प्रचंड समर्थन मिला और चारों सीटें भारी अंतर से भारतीय जनता पार्टी जीती और हिमाचल प्रदेश के इतिहास में पहली बार प्रदेश के सभी 68 विधान सभा क्षेत्रों में पार्टी को बढ़त प्राप्त हुई। भारतीय जनता पार्टी हिमाचल प्रदेश बूथ स्तर पर मजबूती के साथ खड़ी है पिछले अनेको वर्षो की कड़ी मेहनत के आधार पर पार्टी कार्यकर्ताओं ने संगठन को भारत के श्रेष्ठ संगठनों की श्रेणी में खड़ा किया है। प्रदेश में हुए दो उप-चुनावों (पच्छाद एवं धर्मशाला) में भारतीय जनता पार्टी को जीत मिली और प्रदेश की जनता ने भाजपा सरकार की नीतियों पर अपनी मोहर लगाई। यहां तक कि धर्मशाला उप-चुनाव में कांग्रेस पार्टी के प्रत्याशी की जमानत तक जब्त हो गई। भारतीय जनता पार्टी प्रदेश कार्यसमिति का यह दृढ़ मत है कि वर्तमान सरकार मुख्यमंत्री श्री जयराम ठाकुर के नेतृत्व में विकास की राह पर चलते हुए हिमाचल प्रदेश को शिखर पर पहुंचाएगी। भारतीय जनता पार्टी की यह कार्यसमिति कार्यकर्ताओं को आहवान करती है कि वो वर्तमान सरकार की जनहित की नीतियों को लेकर जनता के बीच में जाएं और भाजपा सरकार की उपलब्धियों व कांग्रेस पार्टी के खोखलेपन को जन-जन तक पहुंचाएं। भारतीय जनता पार्टी की यह कार्यसमिति प्रदेश सरकार के 2 वर्श के कार्यकाल में किए गए विकास कार्यो की सराहना करते हुए सरकार व मुख्यमंत्री श्री जयराम ठाकुर जी को बधाई देती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.