हिमाचल मंडी कोरोना के जख्म:बेटे की मौत के बाद खुद पॉजिटीव हुई माँ स्वस्थ पर रोक नही पाई आंसू,बेटे के दर्द में फुट फुट कर रोई

हिमाचल मंडी कोरोना के जख्म:बेटे की मौत के बाद खुद पॉजिटीव हुई माँ स्वस्थ पर रोक नही पाई आंसू,बेटे के दर्द में फुट फुट कर रोई

मंडी। जिला के सरकाघाट की कोरोना से संक्रमित महिला की रिपोर्ट नेगेटिव आने के बाद स्वास्थ्य विभाग ने उसे पूरी तरह से स्वस्थ पाए जाने पर घर भेज दिया है। अनिल भारद्वाज ने बताया कि दोनों कोरोना मरीजों को आज स्वस्थ होने पर घर भेजा जा रहा है। उपमंडल के सभी विभागों द्वारा मिले भरपूर सहयोग के लिए उपमंडलाधिकारी गोहर ने सभी का धन्यवाद किया। डॉ. टीआर अभिलाषी ने बताया कि स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा अभिलाषी आयुर्वेदिक संस्थान में दोनों मरीजों को आयुर्वेदिक काढ़े की व्यवस्थता का भी प्रयोग किया गया जो कि इन दोनों मरीजों को भी दिया गया था।

आज दोनों कोरोना मरीज घर जा रहे है। जैसे ही कोरोना संक्रमित रह चुकी महिला शांति देवी मेडिकल कॉलेज अभिलाषी चैलचौक से बाहर निकली तो बेटे अर्पित की मृत्यु के वियोग को छुपा नहीं सकी। अभागी मां उपचार केंद्र से बाहर निकलते ही बेटे की मृत्यु के गम में जोर-जोर से रो पड़ी। जिससे उनको घर खुशी-खुशी विदा करने आए लोग, स्वास्थ्य विभाग की टीम यहां तक कि प्रशासनिक अधिकारी भी मां-पुत्र विलाप के आगे आखों से आंसू निकालने को मजबूर हो गए। जिला स्वास्थ्य अधिकारी दिनेश ठाकुर, एसडीएम गोहर अनिल शर्मा, अभिलाषी यूनिवर्सिटी के चांसलर डॉ. टीआर अभिलाषी, खंड स्वास्थ्य अधिकारी ज्ञान चंद, डॉ. ललित गौतम समेत उपमंडल के कई अधिकारी मौजूद रहे।

बता दें कि स्वास्थ्य विभाग द्वारा शुक्रवार को संक्रमित महिला के सैंपल लेकर जांच के लिए भेजे गए थे। जिसकी रिपोर्ट नेगेटिव आई है और मरीज पूरी तरह से स्वस्थ पाए गए। जिला स्वास्थ्य अधिकारी दिनेश ठाकुर ने कहा कि कोरोना संक्रमित पाए जाने पर 9 मई को मशोबरा शिमला से अभिलाषी इंस्टिट्यूट चैलचौक को शिफ्ट कर दिया था। जिनके साथ जेठ प्रताप सिंह टैस्ट में भले ही नेगेटिव आए थे, लेकिन डॉक्टरों ने उन्हें अपनी निगरानी में रखने के आदेश दिए हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.